श्री काशी विश्वनाथ

HELLO Friends,

Today we are going to tell you  श्री काशी विश्वनाथ so friends read and share it if you like this post  श्री काशी विश्वनाथ दोस्तों आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो आगे भी और अपने दोस्तों के साथ शेयर करें ज्यादा से ज्यादा और अपडेट रहने के लिए इसको कंटिन्यू करें

 

 

श्री काशी विश्वनाथ

काशी विश्वनाथ में हर घर में भगवान भोलेनाथ के प्रति अटूट भक्ति देखने को मिलता है | काशी में एक जयघोष हर व्यक्ति की जुबान पर होता है – हर हर महादेव घर घर महादेव | इसलिए काशी को भोलेनाथ की प्रिय नगरी कहा गया है | पौराणिक मान्यता के अनुसार एक बार भगवान शिव को एक से दो होने की इच्छा जाग्रत हुई और उन्होंने स्वयं को दो रूपों में विभक्त कर लिया एक शिव और दूसरा शक्ति | किन्तु वे इस रूप में अपने माता -पिता न होने के कारण उदास रहने लगे तभी आकाशवाणी हुई और उन्हें तपस्या करने की आज्ञा दी | उस आज्ञा का पालन करते हुए भोलेनाथ ने अपने हाथों से 5 कोस लम्बे भू-भाग पर काशी का निर्माण किया और यहाँ पर विश्वनाथ के रूप में विराजमान हुए |

सूर्य की पहली किरण काशी में पड़ती है : –
ऐसी मान्यता है कि सूर्य जैसे ही उदय होता है उसकी पहली किरण इसी स्थान पर पड़ती है | कुछ समय के लिए भगवान शिव स्वयं कैलाश पर्वत को छोड़कर यहाँ आते है | काशी में रहने वाले लोगों की मान्यता है कि भगवान शिव स्वयं उनकी रक्षा करते है | काशी को भगवान शिव की प्रिय नगरी भी कहा गया है | कुछ धार्मिक मान्यताओं के अनुसार पृथ्वी पर जीवन की शुरुआत इसी स्थान से हुई थी

कैसे पहुंचे –

आप एयरपोर्ट से या कैंट या मंडुआडीह से ऑटो या गाड़ी बुक करके आराम से गोदौलिया आ सकतें हैं।
एयरपोर्ट से गोदौलिया की दूरी – 25 km
कैंट रेलवे स्टेशन से – 6.9 km
मंडुआडीह रेलवे स्टेशन से- 4.3 km
मुगलसराय रेलवे स्टेशन से- 15 km

श्री काशी विश्वनाथ
आरती समय – 

मंगला आरती                 03:00 से 04:00
भोग आरती                    11:15 से 12: 20
संध्या आरती                  07:00 से 08:15
श्रृंगार आरती                  09:00 से 10:00 रात्रि
शयन आरती                   10:30 से 11:00 रात्रि

श्री काशी विश्वनाथ 

ABC

कैसे पहुंचे